Makar Sankranti 2022 (मकर संक्रांति 2022)

इस साल मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2022) का त्यौहार 14 जनवरी पौष माह के शुक्लपक्ष को मनाया जायेगा। कुछ पंचांगों के अनुसार मकर सक्रांति का त्यौहार 15 जनवरी को भी मनाया जाता है।

इस दिन सूर्य धनु राशि से निकलकर मकर राशि (Surya Enter Makar Rashi) में प्रवेश करते है इसलिए इसे मकरसक्रांति Makar sankranti कहा जाता है।

राजस्थान में मकरसक्रांति को उत्तरायण (Uttarayan) के नाम से भी जाना जाता है। क्योकि इस दिन सूर्य उत्तरायण में प्रवेश करते है।

इस बार मकर सक्रांति व्याघ पर बैठकर आएगी और उनका उपवहान अश्व होगा।ऐसी मान्यता है की हमेशा सक्रांति अलग अलग सवारी पर आती है। इसका प्रभाव अलग अलग राशियो पर अलग-अलग होता है। यह किसी राशि के लिए शुभ तो किसी के लिए अशुभ होता है ।

इस दिन की मान्यता इतनी ज्यादा है की त्यौहार तीज के अलग अलग हिस्सों में अलग अलग नाम से मनाया जाता है जैसे -तमिलनाडु में पोंगल के रूप में मनाया जाता है। कर्नाटक ,केरल तथा आंध्रप्रदेश में इसे सक्रांति कहते है। ओडिशा ,बिहार ,झारखण्ड ,मध्यप्रदेश ,हरियाणा महाराष्ट्र में इसे मकर सक्रांति कहा जाता है।

makar-sankranti-2022

खिचड़ी का महत्त्व (Khichdi on Makar Sankranti)

मकरसक्रांति पर तिल खाने का और चावल की खिचड़ी खाने का बड़ा महत्त्व है चावल को सूर्य का प्रतिक कहा जाता है। तथा एक मान्यता यह भी है की मकर संक्रांति के दिन उड़द की दाल, चावल और सब्जिया डाल कर बनाई हुई खिचड़ी खाई जाती है। कई लोग खिचड़ी के स्टॉल बांटकर पुण्य कमाते हैं। देश के कुछ इलाके ऐसे भी है, जहां मकर संक्रांति पर्व को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है।

मकर संक्रांति पर क्यों किया जाता है तिल का दान (til ka daan on makar sankranti)

इस के मौकै पर तिल और गुड़ के लड्डू खाए जाते हैं हिन्दू मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा जाता है की शनि देव को तिल अति प्रिय है इस लिए इस दिन तिल के लड्डू खाये जाते है और तिल का दान किया जाता है।

ऐसा कहा जाता है की तिल का दान करने से शनि देव बहुत प्रसन होते है। इस दिन दान आदि करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है. इस दिन दान करने के लिए किसी मंदिर में जाकर चावल, घी, दही, आटा, गुड़, काला तिल, सफेद तिल, लाल का दान किया जा सकता है।

इस दिन दान करने से जीवन के सभी दुखों का नाश होता है और सुख की प्राप्ति होती है। 

मकर संक्रांति पर करें ये कार्य

  • मकरसक्रांति पर तिल के तेल से मालिश करना चाहिए।
  • पतंग उड़ानी चाहिए।
  • मकर संक्रांति (Makar sankranti 2022) के दिन तिल से पकवान और मिठाइयों का सेवन करना चाहिए।
  • इस दिन पवित्र नदी या सरोवर में स्नान करना शुभ माना जाता है।
  • इस दिन अगर घर पर ही स्नान कर रहे हो तो पानी में तिल डाल कर स्नान करना चाहिए।

SOCIAL MEDIA पर जानकारी शेयर करे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *