श्री गणेश जी की आरती

shree-ganesh-aariti

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा,

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा। जय गणेश—

एक दंत दयावंत चार भुजा धारी,

मस्तक सिन्दूर सोहे मूसे की सवारी| जय गणेश—

अंधन को आंख देते कोढ़िन को काया,

बांझन को पुत्र देत निर्धन को माया| जय गणेश—

हार चढै़ फूल चढै़और चढै़ मेवा,

लड्डुअन का भोग लगे संत करे सेवा|जय गणेश—

दीनन की लाज राखो शंभु सुतवारी,

कामना को पूर्णं करो जग बलिहारी| जय गणेश—

सुर श्याम शरण आये सफल कीजे सेवा,

सिद्धी बुद्धि साथ लाओ जय गणेश देवा| जय गणेश—

गजानं भूतगणादिसेवितं कपित्थजम्बूफल चारु भक्षणं।

उमासुतं शोक विनाश कारकं नमामि विघ्नेश्वर पाद पंकजमं।

SOCIAL MEDIA पर जानकारी शेयर करे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *